विशेषण किसे कहते है? इसके प्रकार, भेद और उदाहरण

हिंदी में किसी भी वाक्य को बनाने के लिए हिंदी व्याकरण की आवश्यकता होती है। हिंदी व्याकरण में विशेषण भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

विशेषण का उपयोग संज्ञा तथा सर्वनाम के साथ किया जाता है। आज के लेख में हम आपको विशेषण किसे कहते है उदहारण सहित बताएँगे। 

विशेषण किसे कहते है इसके प्रकार, भेद और उदाहरण
विशेषण किसे कहते है इसके प्रकार, भेद और उदाहरण

विशेषण किसे कहते है ?    

विशेषण क्या है यह समझना बेहद ही आसान होता है। दरहसल विशेषण वह होता है जो कि संज्ञा अथवा सर्वनाम की विशेषता को बताता है। आपको बताना चाहेंगे कि विशेषण भी एक तरह से संज्ञा ही होती है।

संज्ञा में किसी भी वस्तु का नाम सीधे दर्शाया जाता है लेकिन विशेषण की बात करे तो यहाँ पर वस्तु का नाम अप्रत्यक्ष्य रूप में दिखाई देता है।

जैसे – लाल शर्ट ,यहाँ पर लाल शब्द शर्ट की विशेषता को प्रदर्शित कर रहा है। 

हिंदी वाक्यों में विशेषण का इस्तेमाल अकेले नहीं किया जा सकता है इसे संज्ञा अथवा सर्वनाम के साथ जोड़कर ही इसका प्रयोग होता है और वाक्य का अर्थ निकल पाता है। 

विशेषण के उदाहरण

  • लम्बी लड़की – इस शब्द में लम्बा शब्द विशेषण है और लड़की शब्द संज्ञा है। 
  • सफेद बाघ – यहाँ सफ़ेद रंग बाघ की विशेषता को दर्शा रहा है इसलिए यह शब्द भी विशेषण कहलायेगा।  
  • मोटा आदमी – यहाँ पर मोटा शब्द विशेषण है जो की आदमी नामक संज्ञा की विशेषता को दर्शा रहा है। 
  • बड़ा पेड़ – इस शब्द में बड़ा शब्द विशेषण है और पेड़ शब्द संज्ञा है। 
  • पतली लकड़ी – पतला शब्द लकड़ी की विशेषता को दर्शा रहा है। 

विशेष्य और प्रविशेषण किसे कहते हैं

विशेषण के प्रकार को बताने से पहले चलिए आपको बताते है कि विशेष्य और प्रविशेषण क्या होते है ?

विशेष्य: संज्ञा या फिर सर्वनाम जिन भी शब्दो की विशेषता दर्शायी जाती है उन्हें विशेष्य कहा जाता है। विशेष्य का रूप संज्ञा भी हो सकता और क्रिया भी। जब यह संज्ञा के रूप में प्रयुक्त किया जाता है तो यह संज्ञा विशेषण कहलाता है और जब इसे क्रिया के रूप में प्रयुक्त करते है तो यह क्रिया विशेषण बन जाता है। 

जैसे- अंगूर खट्टे है। यहाँ पर अंगूर शब्द विशेष्य है। कविता अपनी क्लास में सबसे लम्बी है। यहाँ पर कविता विशेष्य शब्द है।  

प्रविशेषण: जो शब्द विशेषण की भी विशेषता को दर्शाते है उन्हें प्रविशेषण कहते है। जैसे- बहुत दुबला व्यक्ति, इसमें बहुत शब्द प्रविशेषण है जो कि दुबला शब्द की विशेषता को बता रहा है। 

विशेषण, विशेष्य अथवा प्रविशेषण को एक वाक्य द्वारा समझते है। 

आज बारिश बहुत तेज हुयी है। 

इस वाक्य में बारिश शब्द संज्ञा भी है और विशेष्य भी। तेज शब्द विशेषण है और बहुत शब्द प्रविशेषण को बता रहा है।


विशेषण कितने प्रकार के होते है

विशेषण चार प्रकार के होते है:- 

  1. गुणवाचक विशेषण 
  2. संख्यावाचक विशेषण 
  3. परिमाण वाचक विशेषण 
  4. सार्वनामिक विशेषण 

गुणवाचक विशेषण किसे कहते हैं

गुणवाचक का मतलब होता है किसी के गुणों को बताने वाला। विशेषण शब्द जो कि संज्ञा या फिर सर्वनाम के गुणों की विशेषता बताता है उसे गुणवाचक विशेषण कहते है।

आपको बता दे कि यह केवल गुणों को ही नहीं दर्शाता इसमें गुण के साथ साथ उस शब्द का आकार, रूप, रंग, स्वाभाव, दोष आदि को भी बताता है। 

गुणवाचक विशेष के उदारहण 

  • श्याम का स्वाभाव शांत प्रवति का है। इस वाक्य में श्याम शब्द संज्ञा को बता रहा है जबकि शांत शब्द श्याम की विशेषता को बताता है। इस वाक्य में शांत शब्द श्याम के गुणों को प्रदर्शित कर रहा है इसलिए इसे गुणवाचक विशेषण कहेंगे।  
  •  गीता गोरी लड़की है। इसमें गीता संज्ञा है और गोरा रंग उसकी विशेषता को प्रदर्शित  कर रहा है। यहाँ पे गोरा होना गुणवाचक विशेषण है। 
  • रामू बहुत गरीब है। इसमें रामू शब्द संज्ञा को दिखा रहा है और उसका गरीब होना विशेषण शब्द है। इस शब्द में रामू का गरीब होने उसकी अवस्था को दर्शाता है इसलिए यह एक गुणवाचक विशेषण कहलायेगा।  
  • आसमान नीला होता है। नीला रंग आसमान की विशेषता को प्रदर्शित कर रहा है इसलिए इसे गुणवाचक विशेषण कहेंगे। 

संख्यावाचक विशेषण किसे कहते है ?  

संख्या वाचक अर्थात जो संख्या को दर्शाता है। ऐसे विशेषण शब्द जो कि संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्द की गिनती को दर्शाता है, संख्यावाचक विशेषण कहलाता है। आपको बता दे कि यह संख्या निश्चित और अनिश्चित दोनों तरह की हो सकती है। 

संख्यावाचक विशेषण के उदारहण

  • मोहन ने चार आम खाये। इसमें मोहन और आम संज्ञा है। चार आम नामक संज्ञा की संख्या को बता रहा है। इसलिए यह शब्द संख्या विशेषण कहलाता है।  
  • ललिता एक पेन से लिखती है। इसमें पेन संज्ञा है और एक संख्या है इसलिए यह भी संख्या वाचक विशेषण होगा। 
  • दो कबूतर छत पर बैठे है। इस में कबूतर शब्द संज्ञा है और दो शब्द कबूतर की संख्या को बता रहा है। जो की संख्यावाचक विशेषण के अंतर्गत आएगा। 
  • टेबल पर आठ किताबे रखी है। इस वाक्य में आठ किताबो की संख्या को दर्शा रहा है। इसलिए यह आठ संख्या वाचक विशेषण होगा।
संख्यावाचक विशेषण के भेद  

संख्यावाचक विशेषण के दो भेद होते है:- 

  •  निश्चित संख्यावाचक विशेषण 
  • अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण 

निश्चित संख्यावाचक विशेषण – ऐसे संख्यावाचक विशेषण जो कि किसी संज्ञा या फिर सर्वनाम के शब्दों की निश्चित संख्या बताते है। निश्चित संख्यावाचक विशेषण कहलाते है। जैसे – तीन पेन, पांच किताबे, सात पेड़ आदि। 

अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण – ऐसे संख्यावाचक विशेषण जो कि किसी संज्ञा या फिर सर्वनाम के शब्दों की निश्चित संख्या को नहीं दर्शा पाते। जैसे कि बहुत सारे लोग। यहाँ पर बहुत सारे में कोई निश्चित संख्या नहीं बताई गयी है। इसलिए यह अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण कहलाते है। 


परिमाण वाचक विशेषण किसे कहा जाता है

वह विशेषण शब्द जो किसी संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्दों के परिमाण को दर्शाता है उसे परिमाण वाचक विशेषण कहते है। इसमें शब्द की मात्रा, तौल, नाप आदि हो सकते है। 

परिमाण वाचक विशेषण के उदाहरण 

  • खदान से एक टन सोना निकलता है। यहाँ पर एक टन सोना नामक संज्ञा के परिणाम को प्रदर्शित करता है इसलिए इसे परिमाण वाचक विशेषण कहेंगे। 
  • टेंक में दस लीटर पानी आता है। इसमें दस लीटर पानी के परिणाम को बता रहा है इसलिए यह भी परिमाण वाचक विशेषण कहलायेगा। 

परिमाण वाचक विशेषण भी दो प्रकार के होते है। एक निश्चित परिमाण वाचक विशेषण और दूसरा अनिश्चित परिमाण वाचक विशेषण।


सार्वनामिक विशेषण किसे कहते है

ऐसे सर्वनाम विशेषण शब्द जो की किसी संज्ञा या फिर सर्वनाम की विशेषता बताता है। उसे सर्वनाम विशेषण कहते है। सर्वनामक विशेषण को संकेतवाचक विशेषण भी कहा जाता है। 

सार्वनामिक विशेषण के उदाहरण 

  • यह मेरी पेन्सिल है। यहाँ पर पेन्सिल संज्ञा है और यह शब्द विशेषण है। यह शब्द पेन्सिल की तरफ संकेत कर रहा है व यह शब्द सर्वनाम भी है। इसलिए इसे सार्वनामिक विशेषण कहेंगे। 
  • वह मेरा कमरा है। कमरा शब्द संज्ञा है और वह शब्द सर्वनाम होने के साथ साथ कमरे की विशेषता को बता रहा है इसलिए यह सार्वनामिक विशेषण कहलाता है। 

उपरोक्त लेख में आप समझ गए होंगे कि विशेषण क्या होता है और इसका इस्तेमाल हिंदी व्याकरण में कैसे किया जाता है। यदि आपको इससे सम्बंधित कोई और सवाल है तो हमें कमेंट करके पूछे। 


यह भी पढ़ें : आपको पता है दुनिया के सात अजूबे कौन से हैं

Leave a Comment