जीडीपी क्या है सरल शब्दों में

इस ब्लॉग में हम बात करेंगे जीडीपी क्या है इसे कैसे मापा जाता है आपने कई बार यह सुना होगा कि हमारे देश की जीडीपी इस साल  घट गई है या फिर इस साल इतनी बढ़ गई है तो चलिए हम आपको सरल शब्दों में बताते हैं कि जीडीपी क्या है 

जीडीपी क्‍या है , जीडीपी का फुल फॉर्म , GDP in Hindi

जीडीपी क्या है

किसी भी देश की आर्थिक स्थिति क्या है यह पता करने का सबसे आसान तरीका जीडीपी ( ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट ) होता है जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक स्थिति या हालात को मापने का पैमाना होता है किसी भी एक देश में निर्धारित समय में वस्तुओं के उत्पादन और सेवाओं का जो पूरा मूल्य होता है उसे जीडीपी यानी सकल घरेलू उत्पाद या अंग्रेजी में ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट कहते हैं 

जीडीपी देश के उत्पाद के मूल्य का टोटल होता है और  जीडीपी के माध्यम से हम पता कर सकते हैं कि उस देश की विकास दर क्या है जब भी किसी देश की जीडीपी बढ़ती है या फिर घटती है तो ऐसे में हमें यह मालूम पड़ जाता है कि उस देश की आर्थिक स्थिति क्या है

जीडीपी को देश की अर्थव्यवस्था का सूचक भी कहा जाता है क्योंकि उस देश की मार्केट में होने वाले कारोबार का पता भी चलता है जो भी वस्तु या उत्पाद देश के अंदर उसका निर्माण या फिर उत्पाद किया गया हो उसे ही देश की जीडीपी के मूल्य में जोड़ा जाता है अगर कोई वस्तु देश के बाहर बनती है या उसका उत्पाद होता है तो उसे जीडीपी में नहीं जोड़ा जाता है 

जीडीपी का फुल फॉर्म

जीडीपी का फुल फॉर्म (Gross domestic product) ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट है हिंदी में इसे सकल घरेलू उत्पाद कहते हैं देश में जीडीपी की गणना हर तिमाही में की जाती है यानी देश में  हर तीन  महीने में जीडीपी की गणना की जाती है

जीडीपी को कैसे निकाला जाता है 

जीडीपी निकालने के लिए एक सूत्र को उपयोग में लिया जाता है जो कि इस प्रकार है  

सकल घरेलू उत्पाद = consumption ( खपत ) + investment ( कुल निवेश ) + government ( सरकारी खर्च ) + [ Exports ( निर्यात ) –  Imports (आयात ) ]

consumer spending ( खपत अथवा उपभोग )

खपत अथवा उपभोग का मतलब किसी व्यक्ति के द्वारा खर्च की गई राशि से होता है उदाहरण के लिए मान लीजिए किसी व्यक्ति ने भोजन या फिर चिकित्सा पर खर्च किया धन उपभोग में आता है

Investment ( निवेश )

निवेश का अर्थ होता है देश की सीमा में रहकर हमने अपने पैसों को कहां पर निवेश किया उदाहरण के लिए मान लीजिए बैंक में हमने अपना पैसा जमा कर दिया या फिर शेयर मार्केट में हमने अपना पैसा लगाया तो यह इन्वेस्टमेंट यानी निवेश में आता है

Government spending ( सरकारी खर्च )

सरकारी खर्च सरकार द्वारा खर्च किए गए धन को कहते हैं जिसमें सरकार हथियार और  दूसरे देशों से सामाग्री आयात, सरकारी कर्मचारियों के वेतन जैसे कई सारे खर्च सम्मिलित होते हैं

Export ( निर्यात )

निर्यात का मतलब देश के अंदर बने उत्पाद को दूसरे देशों के लिए इसकी सेवाएं पहुंचाना या इसकी सेवा देना निर्यात कहलाता है

Import ( आयात )

आयात का मतलब ऐसे उत्पाद जो देश की सीमाओं में उनका उत्पादन नहीं होता है और उसे अपने देश में आयात किया जाता है सरल शब्दों में दूसरे देशों के उत्पाद को अपने देश में खरीदना आयात कहलाता है

जीडीपी कैलकुलेट क्यों की जाती है

जीडीपी किसी भी देश की आर्थिक स्थिति के बारे में बताती है जीडीपी एक ऐसा नंबर होता है जो बताता है जो बताता है देश की आर्थिक स्थिति कैसी है जीडीपी एक निश्चित समय के लिए मापी जाती है आमतौर पर यह 1 साल के लिए मापी जाती है और उसमें से जो नंबर निकलता है उसी नंबर से अलग-अलग देशों से की जीडीपी की तुलना की जाती है और पता चलता है की दूसरे देशों की तुलना में हमारे देश की आर्थिक स्थिति कैसी है

जीडीपी के प्रकार

जीडीपी के अंतर्गत देश की सीमाओं के अंदर उत्पादित संसाधनों और वस्तुओं के मूल्यो की गणना की जाती है इनमें से किसी भी वस्तुओं का मूल्य निर्धारित लंबे समय के लिए नहीं रहता है यह समय समय पर बदलता रहता है यानी जिस वस्तु  का मूल्य अभी के समय वर्तमान में जो है जरूरी नहीं की भविष्य में भी वही मूल्य रहे यह समय समय पर बदलता रहता है

जीडीपी के दो महत्वपूर्ण प्रकार

वास्तविक जीडीपी

वास्तविक जीडीपी से मतलब है की एक वर्ष के समय में देश की सीमाओं के अंदर उत्पादित हुआ  अंतिम वस्तु और सेवाओं के बाजार मूल्य से है इसमें स्थिर कीमतों पर जीडीपी के आकलन को वास्तविक जीडीपी कहते हैं

अवास्तविक जीडीपी

अवास्तविक अथवा नाममात्र जीडीपी में वर्तमान में बाजार में जो कीमतें चल रही हैं उसी के आधार पर जीडीपी को निकाला जाता है यही जीडीपी के देश की आर्थिक स्थिति को सही रूप से प्रस्तुत करती है

यह भी पढ़ें : लोकतंत्र क्या है लोकतंत्र किसे कहते हैं

यह भी पढ़ें : जीडीपी क्या है सरल शब्दों में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *