विज्ञान किसे कहते है विज्ञान की परिभाषा क्या है हिंदी में?

दोस्तों आज के लेख में हम आपको विज्ञान किसे कहते है इसकी पूर्ण जानकारी देने वाले है। कक्षा दसवीं तक के छात्रों  को यह सवाल परीक्षां में कई बार पूछा जाता है।

विज्ञान किसे कहते है, vigyan kya hai

विध्यार्ती अच्छे से समझ सके की विज्ञान क्या है तथा इसके प्रकार क्या है हम इसकी पूरी कोशिश करेंगे। 


विज्ञान किसे कहते हैं

कोई भी वस्तु का पहले सही तरीके से अवलोकन करना और फिर उसका विश्लेषण करना ही विज्ञान है। अगर आप विज्ञान शब्द को देखो तो यह दो शब्दों से मिलकर बना है वि + ज्ञान

आप नाम से समझ सकते है की विज्ञानं का अर्थ विशेष ज्ञान होता है अर्थात अन्य शब्दों में कहे तो किसी भी चीज़ के बारे में जानकारी समग्र करना और फिर उसे सही प्रकार से लागू करना विज्ञान कहलाता है। 


विज्ञान कितने प्रकार के होते है

विज्ञान को दो भागो में विभाजित किया गया है पहला सजीवों का विज्ञान और दूसरा निर्जीवों का विज्ञान। 

  1. सजीवों का विज्ञान

सजीवों का विज्ञान अर्थात जीव विज्ञान में सजीव और उनसे होने वाली क्रियाओ का अभ्यास किया जाता है। यह विज्ञान बायोलॉजी का पार्ट है। 

  1. निर्जीवों का ज्ञान

निर्जीवों के विज्ञान में ऐसी क्रियाओं और पदार्थों का अभ्यास किया जाता है, जिसका संबंध हमारे जीवन से नहीं होता है। यह विज्ञान फिजिक्स का पार्ट है। 


विज्ञान का वर्गीकरण क्या है?

विज्ञान का वर्गीकरण भी दो भागो में किया गया है 

  1. सामाजिक विज्ञान
  2. प्राकृतिक विज्ञान
  1. सामाजिक विज्ञान

इस विज्ञान का आधार समाज और मनुष्य होता है। इसमें मुख्य तौर पर अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, भूगोल तथा इतिहास शामिल होता है। 

  1. प्राकृतिक विज्ञान

प्राकृतिक विज्ञान, विज्ञान का ढांचा कहलाता है। इसमें आपको अंतर्गत पदार्थ और प्रकति के विज्ञान के बारे में जाने को मिलता है। इसमें जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान और भौतिक विज्ञान आता है।


जीव विज्ञान किसे कहते है 

जीव विज्ञान, विज्ञान का वह भाग है जिसमे जीवों तथा मनुष्य के बारे में अध्यन किया जाता है। जीव विज्ञान के अंतर्गत आता है 

  • वनस्पति शास्त्र
  • जैव विकास
  • मानव रोग
  • पोषक पदार्थ,
  • मानव शरीर के तंत्र
  • वनस्पति विज्ञान
  • जंतु जगत का वर्गीकरण
  • कोशिका वर्गीकरण आदि विज्ञान की कुछ प्रमुख शाखाएं।

रसायन विज्ञान किसे कहते हैं?

रसायन विज्ञान उसे कहते है जिसमे किसी भी पदार्थ की संरचना, पदार्थ के गुण, तथा अलग अलग पदार्थ की आपस में हो रही रासायनिक क्रियाओं का अध्यन किया जाता है। 

रसायन विज्ञान के कुछ टॉपिक ऐसे है जिनका अभ्यास बच्चो को जरूर करना चाहिए।

जैसे रासायनिक बंधन, क्षार, अवकरण, हाइड्रोकार्बन, रबर, सल्फर, कांच, परमाणु संरचना, लवण, अम्ल, ऑक्सिकरण, विलियन, प्लास्टिक, धातुएं, धातुओं के यौगिक, अधातुएँ, गैस, ऑक्सीजन, हेलोजन, फास्फोरस आदि।


भौतिक विज्ञान किसे कहते हैं?

भौतिक विज्ञान वह कहलाता है, जिसके अंतर्गत पदार्थ के भौतिक गुणों का अभ्यास किया जाता है और इसके साथ ही हमें इसमें नेचर से जुड़ी विभिन्न प्रकार की ऊर्जाओं का भी अभ्यास करने को मिलता है। 

यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है, प्रतियोगी परीक्षाओं में इसके बारे में बहुत पूछा जाय है। भौतिक विज्ञान अनेक भाग है जो विभिन्न विषयों पर आधारित है।

उदाहरण के लिए यांत्रिकी,  बिजली, ऊष्मा, चुम्बकत्व, ध्वनि प्रकाश आदि। भौतिक विज्ञान को भी दो भागों में विभाजित किया गया है। पहला चिरसम्मत भौतिकी और आधुनिक भौतिकी। 

जल प्रदूषण : समाधान, कारण तथा दुष्परिणाम


विज्ञान का महत्व क्या है? 

ऊपर आपने विज्ञान के प्रकारो के बारे में जाना की किस तरह विज्ञान को विभाजित किया गया है।

अब हम आपको इसका हमारे जीवन में किस तरह महत्व है यह बताएंगे। तो चलिए विस्तार से जानते है की यह हमारे जीवन से किस तरह जुड़ा हुआ है।  

डिजिटल शिक्षा 

एक वक्त था जब सभी विद्यार्थी गुरुकुल में शिक्षा ग्रहण करने जाते थे। तब गुरु से शिक्षा प्राप्त करने के लिए वे गुरुकुल में ही रहते थे और गुरुकुल का कार्य भी करते थे। वे शिक्षा ग्रहण करते वक्त श्याही का इस्तेमाल करते थे। 

फिर नया वक्त आया जब बच्चे स्कूल जाने लगे और लकड़ी के बोर्ड पर चाॅक से लिखा जाने लगा और बच्चे श्याही की जगह पेंसिल और पेन का इस्तेमाल करने लगे। 

आज के समय में तो विज्ञान ने डिजिटल चीज़ो से क्रांति ही ला दी है। अब बच्चे पढ़ने के लिए घर पर ही मोबाइल, लैपटॉप से ऑनलाइन पढ़ रहे है। और विद्यालय में आजकल डिजिटल बोर्ड से पढ़ाया जा रहा है। 

चिकित्सा के क्षेत्र में वरदान 

चिकित्सा के क्षेत्र में भी विज्ञान की तरक्की कम नहीं है। चिकित्सा में किये गए विभिन्न प्रयोगो में विज्ञान का बेहद योगदान रहा है। पहले जहा चिकित्सा के क्षेत्र में साधनो की कमी थी वही अब चिकित्सा पद्धति को आसान बनाने के लिए कई मशीन आ चुकी है।  

जहा पहले अंदुरनी बीमारी क्या है यह पता करने में वक्त लगता था अब मशीन मिंटो में आपके पुरे शरीर को चेक करके बता देती है। और बड़े बड़े रोग का जल्द निवारण भी विज्ञान की मदद से ही मुमकिन हो पाया है। 

शक्तिशाली रक्षा पद्धति

पहले के समय में रक्षा के क्षेत्र में लकड़ी तथा पत्थरो का उपयोग किया जाता था। वही विज्ञान की मदद से रक्षा के लिए पिस्तौल और बन्दुक ने जगह ले ली है। 

जब एक देश से दूसरे देश को सुरक्षा के मुद्दे खड़े हो गए तब हमारे सामने मिसाइल और परमाणु बम, ड्रोन जैसी चीज़े आयी। इसलिए कह सकते है की रक्षा के क्षेत्र में भी विज्ञान का बहुत महत्व है। 

आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स

यह विज्ञान की एक ऐसी शाखा है जिसका कार्य इंटेलिजेंट मशीन बनाना है। इसमें इस तरह मशीन बनाई जाती है जो इंसानो की तरह ही कार्य करे। आजकल मशीन छोटे से लेकर बड़े आदि काम आसानी से मिंटो में कर लेती है। 

यातायात को किया सहज 

पहले दिन थे जब यातायात करने के लिए ऊँट और बेल गाड़ियाँ का इस्तेमाल किया जाता था जिससे एक स्थान से दूसरे स्थान पहुंचने में काफी दिन लग जाते थे। लेकिन विज्ञान की तरक्की से यातायात सहज हो गया। अब मिलो की दुरी भी ट्रेन, हवाईजहाज आदि से दूर नहीं रही। 

उपरोक्त लेख में आपने जाना ही विज्ञान किसे कहते है। हम अपने दैनिक जीवन में जो भी काम किसी नए तरीके से करते है वही विज्ञान है। उसके अतिरिक्त आप विज्ञान का इस्तेमाल हर वक्त अपनी दिनचर्या में करते है। 

Leave a Comment